किसानों के विरोध से एनएचएआई को 814 करोड़ रुपये का टोल राजस्व नुकसान हुआ: नितिन गडकरी

किसानों के विरोध के कारण पंजाब, हरियाणा और राजस्थान में एनएचएआई को 814 करोड़ रुपये का टोल राजस्व नुकसान हुआ: नितिन गडकरी।

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) को तीन राज्यों में किसानों के विरोध के कारण 16 मार्च तक 814.4 करोड़ का राजस्व नुकसान उठाना पड़ा है। सोमवार को सरकार ने संसद में यह जानकारी दी है। सड़क, परिवहन, राजमार्ग और एमएसएमई मंत्री नितिन गडकरी ने भारी नुकसान को देखते हुए राज्य प्रशासन से उपयोगकर्ता शुल्क संग्रह को बहाल करने का अनुरोध किया गया है।

मंत्री ने कहा, “किसानों के विरोध के कारण राजस्व की हानि मुख्य रूप से पंजाब और हरियाणा में है। राजस्थान में भी इसका असर देखने को मिल रहा है।”

संसद में केंद्रीय मंत्री ने कहा कि 487 करोड़ का नुकसान पंजाब में हुआ है। उसके बाद हरियाणा में 326 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। राजस्थान में 1.40 करोड़ नुकसान होने की जानकारी उन्होंने सदन को दी है। गडकरी ने कहा कि अन्य राज्यों में किसानों के विरोध के कारण राजस्व का कोई नुकसान नहीं हुआ है।

इस संबंध में उठाए गए कदमों को सूचीबद्ध करते हुए, गडकरी ने कहा कि सरकार को भारी नुकसान को देखते हुए उपयोगकर्ता शुल्क संग्रह को बहाल करने के लिए जिला और राज्य प्रशासन के साथ इस मामले को लगातार उठाया जा रहा है। गडकरी ने कहा कि पंजाब में टोल प्लाजा के सुचारू संचालन के लिए पंजाब सरकार से तत्काल हस्तक्षेप का अनुरोध किया गया है।

उन्होंने कहा कि एनएचएआई ने मुख्य सचिव ने राजस्थान से अनुरोध किया है कि वे संबंधित अधिकारियों को उपयोगकर्ता शुल्क वसूली के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश जारी करें।

Leave a Reply