Kerala and Assam Exit Poll 2021 Results: वाम या कांग्रेस की सरकार, कुछ देर में एग्जिट पोल्स के अनुमान

29 APR 2021 08:10 PM – Kerala Exit Polls 2021: केरल में किस पार्टी को कितनी सीट
THE NEWS VOICE के एग्जिट पोल्स के मुताबिक, केरल में लेफ्ट की सरकार फिर से बनती दिख रही है. मतलब कांग्रेस वाला यूडीएफ गठबंधन सत्ता पाने में नाकाम रहेगा. यह बड़ी होगा क्योंकि पिनराई विजयन दोबारा सीएम बन सकते हैं.

केरल में किस पार्टी को कितनी सीट

LDF – 70-80
UDF – 59-69
NDA – 0-2
अन्य – 00

29 APR 2021 07:23 PM– Assam Exit Polls 2021: असम में मुस्लिमों ने किसे वोट दिया

असम में मुस्लिमों ने किसे वोट दिया

NDA – 13.3 फीसदी
UPA – 79.9 फीसदी
अन्य – 6.8 फीसदी

SC-ST

NDA – 53.9

UPA – 31.9

अन्य – 14.2

असम में हिंदुओं ने किसे वोट दिया

NDA – 57.9

UPA – 24.4

OTH – 17.7

महिलाएं

NDA – 42.1

UPA – 46.2

OTH – 11.7

पुरुष

NDA – 41.3

UPA – 44.3

OTH – 14.1

29 APR 2021 07:03 PM Assam Exit Polls 2021: असम में किसे कितने फीसदी वोट

असम में फिर से एनडीए की सरकार बन सकती है. एग्जिट पोल्स के मुताबिक, NDA को 59-69 सीटें मिल सकती हैं. वहीं कांग्रेस को 55-65 सीट मिल सकती हैं. वहीं अन्य को 1-3 सीट मिल सकती हैं

NDA – 41.7
UPA – 45.4
अन्य – 12.9 फीसदी

29 APR 2021 06:50 PM Kerala Exit Polls 2021: केरल का समीकरण क्या है

  • केरल में भी 6 अप्रैल को तीसरे चरण के मतदान में ही 140 विधानसभा सीटों पर मतदान समाप्त हो गए थे. यहां सीधी लड़ाई कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (मार्क्सवादी) समर्थित एलडीएफ और कांग्रेस समर्थित यूडीएफ के बीच है. हालांकि भारतीय जनता पार्टी और उसके सहयोगी दलों ने भी यहां पूरा जोर लगाया है.

29 APR 2021 06:32 PM Assam Exit Polls 2021: असम के 126 विधानसभा सीटों पर चुनाव

  • असम में तीन चरणों में 2021 विधानसभा का चुनाव समाप्त हुआ. यहां पहले चरण की वोटिंग 27 मार्च को 47 विधानसभा सीटों पर हुई थी. इस चरण में 81.09 लाख मतदाताओं के साथ 72.10 फीसदी वोटिंग हुई थी. असम के 126 विधानसभा सीटों पर तीन चरणों में 6 अप्रैल को चुनाव समाप्त हुआ था. यहां सत्तारूढ़ पार्टी बीजेपी और कांग्रेस+एआईयूडीएफ गठबंधन के बीच सीधी लड़ाई देखने को मिलेगी.

तिरुवनंतपुरम. केरल विधानसभा चुनाव में मुख्य मुकाबला माकपा नीत एलडीएफ और कांग्रेस की अगुवाई वाले यूडीएफ के बीच है. दूसरी ओर, भाजपा की अगुवाई वाला राजग पिछली बार की तुलना में राज्य में कम से कम एक से तीन सीटें हासिल करने की उम्मीद कर रहा है.

15वीं केरल विधानसभा के लिए 6 अप्रैल को वोट डाले गए थे. चुनाव आयोग के मुताबिक राज्य में कुल 74.02 प्रतिशत मतदान हुआ था. नेमोम, धर्मदम, थालीपराम्बा, मत्तनूर और कझाकूतम सीटों पर सबसे ज्यादा मतदान हुआ था. केरल में 957 उम्मीदवार चुनाव में अपनी किस्मत आजमा रहे हैं.

एलडीएफ ने किया था जीत का दावा:

एलडीएफ संयोजक और माकपा के राज्य प्रभारी सचिव ए विजयराघवन ने वोटिंग के अगले दिन मीडिया को बताया कि वाम मोर्चा इस बार अधिक सीटें हासिल करेगा. विजयराघवन ने कहा था, ‘वाम लोकतांत्रिक मोर्चा पिछली बार की तुलना में अधिक सीटें हासिल करेगा. कांग्रेस-गठबंधन को इस बार सबसे बुरी हार का सामना करना पड़ेगा. एलडीएफ सत्ता में बरकरार रहेगा.’

यूडीएफ ने भी किया था जीता दावा

यूडीएफ के नेता भी कह रहे हैं कि उनका गठबंधन पर्याप्त सीटें हासिल करके सत्ता में वापसी करेगा क्योंकि ‘लोगों ने यूडीएफ के समर्थन में और एलडीएफ के जन-विरोधी शासन के खिलाफ वोट दिया है.’ कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रमेश चेन्नीथला ने हरिपद में सात अप्रैल को मीडिया से कहा, ‘हमारे द्वारा लगाए गए सभी आरोप सही हैं और लोगों को यह पता है. लोगों के मतदान के रुझान से पता चलता है कि उन्हें विपक्ष पर भरोसा है, जिसने सरकार में भ्रष्टाचार और घोटालों को उजागर किया है.’

राजग को भी जीत की आस

भाजपा की अगुवाई वाला राजग पिछली बार की तुलना में राज्य में कम से कम एक से तीन सीटें हासिल करने की उम्मीद कर रहा है. भाजपा के प्रदेश प्रमुख के सुरेन्द्रन ने कोझीकोड में सात अप्रैल को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘हम चुनाव परिणाम आने के बाद केरल की राजनीति में एक प्रमुख ताकत के रूप में सामने आएंगे. विधानसभा में हमारी क्षमता बढ़ेगी.’

Leave a Reply