मध्य प्रदेश में 1 मई से 18 वर्ष से अधिक उम्र वालों के लिए टीकाकरण टला

मध्य प्रदेश में कोरोना की रोकथाम के लिए चलाए जा रहे टीकाकरण के अभियान के तहत एक मई से 18 वर्ष की आयु और उससे अधिक के लोगों का टीकाकरण किया जाना था मगर यह अभियान फिलहाल टल गया है। इसकी वजह ये बताई जा रही है कि वैक्सीन की आपूर्ति करने वाली दोनों कंपनी आवश्यक डोज की आपूर्ति नहीं कर रही हैं।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में एक मई से 18 वर्ष से अधिक आयु वाले व्यक्तियों का कोरोना वैक्सीनेशन अभियान प्रारंभ किया जाना था, परंतु वैक्सीन निमार्ता कंपनियों से वैक्सीन प्राप्त नहीं होने के कारण यह अभियान एक मई से प्रारंभ नहीं किया जा सकेगा। प्रदेश में तीन मई को वैक्सीन के डोज मिलने की संभावना है, उसके बाद ही वैक्सीनेशन कार्य शुरू होने के आसार हैं।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि 45 वर्ष से अधिक उम्र वाले व्यक्तियों के वैक्सीनेशन का कार्य निरंतर जारी रहेगा। राज्य में कोरोना का टीका 18 वर्ष से अधिक उम्र वाले व्यक्तियों को भी निशुल्क लगाया जाएगा। जैसे-जैसे निमार्ता कंपनियों से वैक्सीन के डोज प्राप्त होंगे, वैसे ही टीकाकरण किया जाएगा।

मुख्यमंत्री चौहान ने निर्देश दिए कि कोरोना संक्रमण के मद्देनजर वैक्सीनेशन के लिए नए केंद्र स्थापित किए जाएं और अस्पतालों में वैक्सीनेशन कार्य नहीं किया जाए।

प्रदेश में कोरोना वैक्सीन के 28 अप्रैल तक 80 लाख 66 हजार 980 डोज लगाए गये हैं, जिनमें से 70 लाख 19 हजार 763 फस्र्ट तथा 10 लाख 47 हजार 217 सेकंड डोज लगाए गए हैं। वैक्सीनेशन कार्य में सात लाख 53 हजार 333 स्वास्थ्य कर्मियों को, छह लाख 54 हजार 268 फ्रंट लाइन वर्कर्स को, 45 से 59 वर्ष के बीच के 33 लाख 26 हजार 172 व्यक्तियों को तथा 60 वर्ष से अधिक उम्र के 33 लाख 33 हजार 207 व्यक्तियों को वैक्सीन डोज लगाए गए हैं।

Leave a Reply