सस्ते लोन के लिए कौन सा बैंक है फायदेमंद प्राइवेट बैंक या सरकारी बैंक, जानिए

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) लगातार ब्याज दरों में कटौती कर रहा है. वहीं कोरोना वायरस महामारी में लोगों को सस्ता कर्ज मुहैया कराया है, लेकिन उसकी इस मुहिम में निजी क्षेत्र के बैंक खरे नहीं उतरे पाए हैं. हालांकि, सरकार बैंकों ने आरबीआई की मंशा के अनुसार कुछ राहत दी है.

निजी बैंकों ने ब्याज की दरों में इतनी कमी नहीं की जितनी आरबीआई ने की है. वहीं देश के सरकारी बैंकों ने भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा दरों में कटौती का पूरा फायदा आम लोगों तक पहुंचाने की कोशिश की है. वहीं लोन लेने के लिए देश में निजी बैंकों की तुलना में सरकारी बैंक ज्यादा अच्छे विकल्प साबित हो सकते हैं.

बता दे कि बीते साल भारतीय रिजर्व बैंक ने पॉलिसी दरों में 115 बेसिस प्वाइंट की कमी की थी. वहीं इसकी तुलना में निजी क्षेत्र के बैंक ग्राहकों को 22 बेसिस प्वाइंट की राहत दी. वहीं अगर बात सरकारी बैंकों की करें तो भारतीय स्टेट बैंक, इंडियन ओवरसीज बैंक ने आम लोगों के लिए ब्याज दरों में 120 बेसिस प्वाइंट की कटौती की. इसके साथ ही बता दे कि भारत के बैंकिंग नियामक रिजर्व बैंक के आंकड़ों से यह जानकारी मिली है.

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा ब्याज दरों में कमी का पूरा फायदा ग्राहकों तक नहीं पहुंचने की वजह से निजी क्षेत्र के बैंकों के मुनाफे में इजाफा हुआ है. इसकी तुलना में सरकारी क्षेत्र के बैंकों का मुनाफा कमजोर रहा है. इसके साथ भी सच्चाई यह भी है कि असुरक्षित कर्ज और हाई यील्ड रिटेल की वजह से निजी क्षेत्र के बैंकों के प्रॉफिट मार्जिन पर असर पड़ा है.

हिंदी समाचार और अधिक ट्रेंडिंग न्यूज़ की जानकारी के लिए फॉलो करे The News Voice – Voice of Tomorrow

Leave a Reply