कोरोना मरीजों में घातक हो सकता है black fungus इंफेक्शन – ICMR ने जारी की एडवाइजरी

कोरोना वायरस मरीजों और कोरोना से ठीक हुए मरीजों में black fungus Infection घातक हो सकता है. वहीं बता दे कि इस संबंध में केंद्र सरकार ने एक एडवाइजरी जारी की है.

एडवाइजरी में कहा गया है कि अनियंत्रित डाइबिटीज और आईसीयू में ज्यादा दिन बिताने वाले कोरोना के मरीजों में ब्लैक फंगस से होने वाली बीमारी Mucormycosis का अगर सही समय पर इलाज नहीं किया गया तो यह घातक हो सकता है.

ज्ञात हो कि इस बीमारी में आंख, गाल और नाक के नीचे लाल हो जाता है. सबूत के आधार पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने इसके इलाज और प्रबंधन से संबंधित एडवाइजरी जारी की है. इसमें कहा गया है कि Mucormycosis हवा से सांस खींचने पर हो सकती है. इसमें ब्लैक फंगस अंदर आ जाते हैं जो लंग्स को संक्रमित कर देते हैं.

क्या है Black fungus infections ?
कोरोना से संक्रमित मरीज या कोरोना से स्वस्थ्य हुए मरीज में Black fungus infections दिख रहे है. Black fungus infections आमतौर पर उन लोगों में होता है जिनका शरीर किसी बीमारी से लड़ने में कमजोर होता है. वह आदमी अक्सर दवाई लेता है और उसमें कई तरह की हेल्थ प्रोब्लम होती है.

क्या है इस बीमारी के लक्षण ?
आंख और नाक के नीचे लाल रंग पड़ना और दर्द होना, बुखार आना, खांसी होना, सिर दर्द होना, सांस लेने में दिक्कत, खून की उल्टी, मानसिक स्वास्थ्य पर असर, देखने में दिक्कत, दांतों में भी दर्द, छाती में दर्द इत्यादि इस बीमारी के लक्षण हैं.

जो मरीज अनियंत्रित डाइबिटीज के शिकार हैं या जिसका शरीर बीमारी से लड़ने में उतना कारगर नहीं है जितना होना चाहिए, ऐसे मरीजों में ब्लैक फंगस इंफेक्शन होने का जोखिम है. इसके अलावा जिसके शरीर में इम्युन कमजोर होता है उसे भी यह बीमारी होने का खतरा है. ऐसे मरीज जो किसी कारणवश लंबे समय से स्टेरॉयड ले रहे हैं, उसमें भी ब्लैक फंगस का जोखिम है.

Leave a Reply