भारत में Drone Pilot कैसे बने ? जानिए इसके बारे में सारी जानकारी।

भारत में अब ड्रोन पायलट (Drone Pilot) का कोर्स करना हुआ आसान। अब ड्रोन पायलट की पूरी दुनिया में ज्यादा डिमांड हो रही है ,जिसको देखकर अब भारत में भी ड्रोन पायलट का कोर्स कर सकते है। ड्रोन से आजकल के ऑनलाइन डिलेवरी के काम के लिए किया जाता है। एक जगह से दूसरे जगह सामान भेजना अब ड्रोन से बहुत ही आसानी से कर सकते है। भारत में भी Swiggy and Dunzo फ़िलहाल ऑनलाइन डेलिवरी की टेस्टिंग कर रही है , जिसको देखकर अब ड्रोन पायलट की जरूरत हो रही है , ऐसे में आप इसमें अपना करियर बना सकते है। वैसे तो इस कोर्स की फीस ज्यादा है , लेकिन अब आप इसको भारत के संस्थान से कर सकते है। आज हम इस आर्टिकल से आपको इस कोर्स की जानकरी देंगे , कैसे आप इस कोर्स को कर सकते है , कहाँ से कर सकते है और कितने पैसों में कर सकते है।

  1. ड्रोन पायलट कैसे बने

    यदि आप ड्रोन पायलट बनना चाहते हैं, तो आपको उन ट्रेनिंग सेंटर में ट्रेनिंग लेनी होगी जो Directorate General of Civil Aviation (DCGA) द्वारा चलाई जा रही हो ।आपके पास सही डाक्यूमेंट्स होने चाहिए और फिर अपने आपको किसी सेंटर में 'रिमोट पायलट' के रूप में रजिस्टर करवाना होगा , जब रजिस्टर हो जाएंगे तो आपको 'पायलट आइडेंटिफिकेशन नंबर' और मानव रहित विमान ऑपरेटर परमिट (UAOP) मिल जाएगा।

    भारत में DCGA में एडमिशन करने से पहले आपको ड्रोन खरीदने की जरुरत नहीं है।आपको सारी ट्रेनिंग किट DCGA की इंस्टिट्यूट द्वारा दी जाएगी। इसलिए आपको ड्रोन से संबंधित कोई भी चीज़ को खरीदने की आवश्यकता नहीं है। आपको ड्रोन पायलट बनने के लिए 18 साल से ऊपर और 10 क्लास (इंग्लिश) में होना चाहिए तभी आप किसी पायलट ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट में एडमिशन ले सकते है।

    DCGA से किसी भी मंजूर की इंस्टिट्यूट में ड्रोन पायलट कोर्स की ट्रेनिंग के लिए कम से कम Rs 65,000 से Rs 1 लाख की कोर्स की फीस लगती है।

    भारत सरकार का कहना है की ग्राउंड ट्रेनिंग को किसी भी DGCA अनुमोदित फ्लाइंग ट्रेनिंग ऑर्गनाइजेशन (FTO) में ट्रेनिंग चाहिए और इसमें कुछ थ्योरी वाले विषय भी है ।

    एरिया ऑफ़ ऑपरेशन के लिए स्पेसिफिक रेगुलेशन
    फिक्स्ड विंग, रोटरी विंग और हाइब्रिड विमान के बारे में सामन्य ज्ञान होना चाहिए।
    एविएशन मीटरोलॉजी के बारे में बेसिक ज्ञान होना चाहिए।
    नो ड्रोन जोन के साथ एयरस्पेस स्ट्रक्चर और एयरस्पेस रेस्ट्रिक्शन के बारे में ज्ञान होना चाहिए।

    आप भारत में DCGA अनुमोदित संस्थानों में ड्रोन पायलट बनने के लिए आवेदन कर सकते हैं:

    1. अल्केमिस्ट एविएशन प्राइवेट. लिमिटेड
    सोनारी एरोड्रम।
    जमशेदपुर – 831011 ,झारखंड

    2. फ्लाइंग क्लब प्रा।. लिमिटेड
    MS- 10, NH-91, अलीगढ़ हवाई पट्टी।
    धनिपुर, पोस्ट पनेठी।
    अलीगढ़ – 202001 उत्तर प्रदेश।

    3. फ्लाईटेक एविएशन अकादमी।
    A1-Kauser, प्लॉट नंबर .295।
    सड़क नं।. 10, वेस्ट मार्डपल्ली।
    सिकंदराबाद तेलंगाना।

    4. इंदिरा गांधी रश्तरिया उडान अकादमी।
    Fursatganj।
    Dist।. रायबरेली – 229302,उत्तर प्रदेश

    5. पायनियर फ्लाइंग अकादमी प्रा लिमिटेड
    MS-10, NH-91।
    धनिपुर हवाई अड्डा, पोस्ट पनेठी।
    अलीगढ़ – 202001। ,उत्तर प्रदेश

    6. रेडबर्ड फ्लाइट ट्रेनिंग अकादमी प्रा. लिमिटेड.
    बारमती हवाई अड्डा।
    बारमती महाराष्ट्र।

    7. बॉम्बे फ्लाइंग क्लब।
    जुहू एयरपोर्ट, सांताक्रूज़ (डब्ल्यू)
    मुंबई ,महाराष्ट्र।

    8. तेलंगाना राज्य विमानन अकादमी।
    पुराना एयरपोर्ट रोड।
    न्यू बोवेनपल्ली के पास।
    हैदराबाद – 500011।
    तेलंगाना


    आपको ड्रोन उड़ाने से पहले ड्रोन और अपने आप को रजिस्टर्ड कराना होगा। UIN एक यूनिक आइडेंटिफिकेशन नंबर जो एक विशेष पहचान वाले विमान (नैनो ड्रोन को छोड़कर) के लिए डीजीसीए (DGCA) द्वारा जारी किया जाता है। आपको डीजीसीए (DGCA) से मानव रहित विमान ऑपरेटर परमिट (UAOP) लेना अनिवारिया है।, जो ड्रोन उड़ाने के लिए अधिकृत होने से पहले पांच साल के लिए वैध है।

    इसके अलावा, आपको एनपीएनटी आवश्यकताओं का अनुपालन करने की आवश्यकता होगी।
    एनपीएनटी या PN नो परमिशन – नो टेक-ऑफ ’एक सॉफ्टवेयर प्रोग्राम है जो भारत में काम करने से पहले डिजिटल ड्रोन प्लेटफॉर्म के माध्यम से वैध अनुमति प्राप्त करने के लिए हर ड्रोन (नैनो को छोड़कर) को सक्षम बनाता है।

  2. भारत में 5 टाइप के ड्रोन को उड़ा सकते है।

    माइक्रो ,छोटे ,मीडियम और बड़े ड्रोन्स उड़ाने के लिए UIN और UAOP की आवश्यकता है। नैनो ड्रोन (250 ग्राम से कम) को UIN और UAOP की कोई आवश्यकता नहीं होती है। लेकिन आपको ये सुनिश्चित करना होता है की आप इसे 50 फीट (15 मीटर) से ज्यादा दूर तक ना उड़ाए। इसके अलावा आप इसे नियंत्रित हवाई क्षेत्र में नहीं उड़ सकते है। अगर आप इसे हवाई क्षेत्र के पास उड़ाना चाहते है तो आपको इसके लिए UIN, UAOP के लिए आवेदन करना होगा और आपका RPA NPNT के अनुरूप होना चाहिए।

    भारत सरकार ने इसके लिए एक वेबसाइट भी बनाई है जिसका नाम Digital Sky है। इस वेबसाइट में ड्रोन और उसे भारत में उड़ाने के लिए सारी जानकारी दी गयी है। ड्रोन को उड़ाने के लिए आपको सिक्योरिटी क्लीयरेंस को लेना होगा जिसके के लिए RPAS पर CAR में उपलब्ध फॉर्म के अनुसार आवेदन करना होगा। इसके आलवा आप DGCA होमपेज पर eShaaj- ऑनलाइन पोर्टल का उपयोग करके अपने ड्रोन के लिए सिक्योरिटी क्लीयरेंस ले सकते है।

हिंदी समाचार और अधिक ट्रेंडिंग न्यूज़ की जानकारी के लिए फॉलो करे The News Voice – Voice of Tomorrow

Leave a Reply