Madhya Pradesh- मध्य प्रदेश में जहरीली शराब से ही हुई मौतें,अब तक 17 ने लोगों ने दम तोड़ा

मध्य प्रदेश में पुलिस ने शुक्रवार को राज्य-व्यापी रैकेट से संबंधित तीन व्यक्तियों को गिरफ्तार किया। कुख्यात रैकेट ने बड़े ब्रांडों की बोतलों में नकली शराब पैक की और उन्हें दुकानों और बार में बेचा करते थे। जिससे राज्य के चार अलग-अलग जिलों में 17 लोगों की मौत हो गई है।

मध्य प्रदेश के मंदसौर में शराब के सेवन से सात लोगों की मौत हो गई और चार लोग इंदौर में मारे गए। खंडवा में चार अन्य की भी मौत हो गई थी और खरगोन में नकली शारब पीने से दो लोगों की मौत हो गई थी।

इन चार जिलों में सभी मृतको ने सरकार द्वारा अधिकृत दुकानों से शराब खरीदी थी या सरकार द्वारा लइसेंस्ड बार से शराब का सेवन किया था। सूत्रों के अनुसार, उन सभी ने व्हिस्की पी थी जो एक रॉयल स्टैग बोतल में पैक की गई थी।

पुलिस को इस घोटाले की पहली सफलता शुक्रवार को मिली जब तीनों व्यक्तियों को खारगोन जिले से गिरफ्तार किया गया था। इन तीन लोगो को जिले के विभिन्न हिस्सों से गिरफ्तार किया गया था जिनकी पहचान कालका प्रसाद, रोहित दुलिचंद और लकी के रूप में बताई गई है। पुलिस के अनुसार, रॉयल स्टैग व्हिस्की की 1500 से अधिक बोतलें और 9000 से अधिक रैपर और एक ही ब्रांड के 6000 से अधिक बोतल कैप गिरोह से बरामद किए गए है।

खरगोन एसपी शैलेंद्र सिंह चौहान ने कहा कि “गिरफ्तार हुए तीनों आरोपी ने अब तक स्थानीय रूप से बनी शराब बनाने और सोर्सिंग करने और उन्हें रॉयल स्टैग और ब्लेंडर्स प्राइड व्हिस्की की बोतलों में पैक करने की बात कबूल की है। उन्होंने बताया कि वह इंदौर से कच्चा माल प्राप्त करते थे और इसे राज्य के विभिन्न हिस्सों में देते है जैसे मांडौर, इंदौर, खारगोन और खंदवा शामिल थे।

वहीं पश्चिम इंदौर के एसपी महेश चंद जैन ने भी पुष्टि की कि इंदौर में चार मृतकों ने रॉयल स्टैग व्हिस्की का सेवन किया था। दूसरी तरफ खंडवा के एसपी विवेक सिंह ने पुष्टि की है कि उनके जिले में दो मृत व्यक्तियों की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से पता चलता है कि उन्होंने एक ही शराब का सेवन किया था।

इस बीच, मध्य प्रदेश सरकार द्वारा मंदसौर की मौतों की जांच करने के लिए बनाई गई एक विशेष जांच टीम (एसआईटी) ने शराब माफिया के इमारतों को ध्वस्त कर दिया था।

राज्य सरकार शुरू में यह स्वीकार करने के लिए माना कर रही थी कि तीन अलग-अलग जिलों में मारे गए 10 लोगों ने एक ही शराब का सेवन किया था क्योंकि उन्होंने इसे या तो सरकारी लाइसेंस प्राप्त दुकानों से खरीदा था या सरकार द्वारा अधिकृत बार में इसका सेवन किया था।

हिंदी समाचार और अधिक ट्रेंडिंग न्यूज़ की जानकारी के लिए फॉलो करे The News Voice – Voice of Tomorrow

Leave a Reply