कमजोर फेफड़ों को मजबूत बनाने के लिए करें इस आयुर्वेदिक काढ़ा का सेवन 

By Suman Sharma 

02 May 2021

unsplash

unsplash

हवा में प्रदूषण के साथ -साथ स्मोकिंग की बुरी आदत,कोरोना कम्प्लिकेशन, रेस्पिरेटरी डिजीज़ सब मिलकर सांसों संबंधी समस्या का सामना करना पड़ता है। ऐसे में आप चाहे तो इस आयुर्वेदिक काढ़ा का सेवन कर सकते हैं

unsplash

शरीर को चलाने के लिए ऑक्सीजन की जरूरत होती है और फेफड़ों का काम शरीर में ब्लड के जरिए ऑक्सीजन की सप्लाई करना है। ब्लड में कार्बन डाइऑक्साइड के लेवल को मेंटेन करना है।

रेस्पिरेटरी फेल्योर या फेफड़े खराब होने पर दो सिचुएशन आते हैं। टाइप वन में ब्लड में ऑक्सीजन लेवल कम हो जाता है,जबकि कार्बन डाइऑक्साइड का लेवल कम रहता है। 

unsplash

वहीं टाइप टू में ब्लड में ऑक्सीजन का लेवल कम हो जाता है और कार्बन डाइऑक्साइड का लेवल काफी बढ़ जाता है। जब शरीर में एनर्जी की कमी हो जाती हैं तो बॉडी के एंजाइम्स और हॉर्मोन्स इम्बैलेंस होने लगते हैं।

unsplash

अगर आपके सांस लेने में किसी भी तरह की समस्या नहीं होती हैं  यानी चलने में सांस नहीं फूलती हैं तो समझ लें कि आपके फेफड़े मजबूत है और आप कई बीमारियों के हमले झेल सकते हैं। लेकिन इसके बाद भी लोग बेपरवाह हैं।

unsplash

सामग्री

थोड़ी सी गिलोय की डंडी 4-5 तुलसी की पत्तियां आधा इंच अदरक थोड़ी सी कच्ची हल्दी आधी इंच दालचीनी

unsplash

थोड़ी सी मुलेठी थोड़ा सा अश्वगंधा 1-2 काली मिर्च थोड़ा सा  शीलाजीत थोड़ा सा श्वासारि 

unsplash

इस सभी चीजों को इमामदस्ता में डालकर अच्छी तरह से कूट लें। इसके बाद आधा लीटर पानी में डालकर धीमी आंच में पकने दें। जब पानी एक चौथाई बच जाए तो इसे छान लें। इस आयुर्वेदिक काढ़ा को हल्का गुनगुना या फिर ठंडा करके पी सकते हैं

unsplash

अस्वीकरण

यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है।अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

unsplash

अधिक जानकारी और समाचार के लिए